शब्दस्वर

Just another weblog

79 Posts

363 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 5617 postid : 1337727

मुक्तक

Posted On: 1 Jul, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मुक्तक- १
जी एस टी का’ देखिए, खूब मचा है शोर।
इससे रहित प्रभाव से, बचा न कोई छोर।
यही प्रणाली देश के, हित में ही है आज।
जिससे सब बढ़ते चलें, नित्य प्रगति की ओर।
मुक्तक- २
कुछ करने का देश के, मन में भरा जुनून।
राष्ट्रप्रेम से छलकता, आज सभी का खून।
देश हमारा एक है, भिन्न भिन्न हैं पंथ।
इसीलिए सब चाहते, एक नियम कानून।
*************************
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ०१/०७/२०१७



Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran